अस्थमा और थाइराइड जैसी 7 बीमारियों को जड़ से खत्म करता है सिंघाड़ा

http://acharyaastrologer.com/wp-content/uploads/2018/11/2B288E79-2C45-496D-ADFF-D93349CC536D-260x195.jpeg
18 Nov
2018

सर्दी का मौसम आ गया है व इसी मौसम में सिंघाड़े में बहुत ज्यादा आते है जिसका खाने में एक अलग स्वाद है। सिंघाड़ा यानि वाटर चेस्टनट जो स्वास्थ्य के लिए बहुत गुणकारी है। विटामिन ए, साइट्रिक एसिड, फॉस्फोरस, प्रोटीन निकोटीनिक एसिड, विटामिन सी, मैंगनीज कार्बोहाइड्रेट, ऊर्जा, फाइबर, कैल्शियम, एट, आयरन, पोटेशियम, सोडियम, आयोडीन, मैग्नीशियम इसमें भरपूर मात्रा में होते है।

कई पोषक तत्व स्वास्थ्य से जुड़ी कई परेशानियों को दूर करते हैं। अस्थमा- सिंघाड़ा दमा रोगियों के लिए बहुत फायदेमंद है। इस फल की नियमित सेवन करने से सांस संबंधी समस्या से राहत मिलती है। थायराइड- सिंघाडा भी आयोडीन की कमी को कम करता है। यह गले की बीमारियों और थायराइड ग्रंथि को राहत देता है।

दर्द व सूजन से आराम – शरीर में किसी भी जगह पर दर्द या सूजन होने पर सिंघाड़े का लेप बनाकर लगा सकते हैं। बवासीर- सिंघड़ा बवासीर की कठिनाई में सेवन किया जाना चाहिए। बहुत जल्दी राहत मिलती है। ब्लड प्यूरीफायर – सिंघाड़ा ब्लड प्यूरिफायर का कार्य करता है। इसके गुण रक्त को साफ करते हैं और त्वचा को निखारता हैं। महिला सेहत के लिए रामबाण – स्त्रियों की स्वास्थ्य के लिए भी सिंघाडा बहुत अच्छा है। पीरियड्स, प्रेग्नेंसी,यूरिन प्रॉब्लम आदि में सिंघाड़ा बहुत लाभकारी है। इसका सेवन करने से मां व बच्चा दोनों स्वस्थ रहते हैं।

Post a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *