Blog

http://acharyaastrologer.com/wp-content/uploads/2020/12/39612A73-B1CE-4E65-BBCD-3AF61717E315-260x146.jpeg
12 Dec
2020
comment(76)

बच्चों के बड़े होने पर अक्सर उनके माता-पिता उनकी शादी के लिए चिंतित होते हैं कि उनके बच्चों की शादी कब होगी। विशेष तौर पर हिंदू धर्म में शादी को लेकर ज्योतिष, ग्रह और कुंडली का खासा महत्व है। कुण्डली में ग्रहों…

http://acharyaastrologer.com/wp-content/uploads/2020/07/9FE578F2-00B6-418D-B430-64C147789E9C-260x137.jpeg
19 Jul
2020
comment(35)

विवाह पूर्व कुंडली मिलान या गुण मिलान को अष्टकूट मिलान या मेलापक मिलान कहते हैं। इसमें लड़के और लड़की केजन्मकालीन ग्रहों तथा नक्षत्रों में परस्पर साम्यता, मित्रता तथा संबंध पर विचार किया जाता है। शास्त्रों में मेलापक के 2 भेद बताएगए हैं।…

http://acharyaastrologer.com/wp-content/uploads/2020/06/9E12CB36-43D9-4B25-AF22-08D4B4B2087F-260x127.jpeg
28 Jun
2020
comment(47)

राहु काल में क्या न करें: 1. इस काल में यज्ञ, पूजा, पाठ आदि नहीं करते हैं, क्योंकि यह फलित नहीं होते हैं। 2. इस काल में नए व्यवसाय का शुभारंभ भी नहीं करना चाहिए। 3. इस काल में किसी महत्वपूर्ण कार्य…

http://acharyaastrologer.com/wp-content/uploads/2020/03/B7D7310C-D1DA-442A-8879-4CE405C7BFF2-260x168.jpeg
28 Mar
2020
comment(78)

ज्योतिषीय गणना के मुताबिक भी यह समय संक्रमण काल है-वेदों में उल्लेख है-कलयुग में ऐसी भारी व्याधि, वायरस/संक्रमण उत्पन्न होंगे कि मनुष्य का पल में प्रलय हो जाएगा। इस संक्रमित काल में एक-दूसरे को छूने मात्र से मनुष्य तत्काल संक्रमित होकर छुआछूत…

http://acharyaastrologer.com/wp-content/uploads/2020/01/kalva-260x151.jpg
06 Jan
2020
comment(23)

हमारी भारतीय संस्कृति में धार्मिक अनुष्ठान हो या पूजा-पाठ हो या कोई मांगलिक कार्य हो या फिर देवों की आराधना हो, सभी शुभ कार्यों में हाथ की कलाई पर लाल धागा यानी कि मौली बांधने की परंपरा होती है, परन्तु क्या आपने…