Blog

http://acharyaastrologer.com/wp-content/uploads/2017/03/unnamed-19-260x174.jpg
09 Mar
2017
comment(3)

आजिविका के क्षेत्र में सफलता व उन्नति प्राप्त करने के लिये व्यक्ति में अनेक गुण होने चाहिए, सभी गुण एक ही व्यक्ति में पाये जाने संभव नहीं है. किसी के पास योग्यता है तो किसी व्यक्ति के पास अनुभव पर्याप्त मात्रा में…

http://acharyaastrologer.com/wp-content/uploads/2017/03/unnamed-17-260x130.jpg
09 Mar
2017
comment(2)

प्रेम विवाह करने वाले लडके व लडकियों को एक-दुसरे को समझने के अधिक अवसर प्राप्त होते है. इसके फलस्वरुप दोनों एक-दूसरे की रुचि, स्वभाव व पसन्द-नापसन्द को अधिक कुशलता से समझ पाते है. प्रेम विवाह करने वाले वर-वधू भावनाओ व स्नेह की…

http://acharyaastrologer.com/wp-content/uploads/2017/03/unnamed-16-260x171.jpg
09 Mar
2017

शनि की साढ़ेसाती शनि साढेसाती में शनि तीन राशियों पर गोचर करते है।तीन राशियों पर शनि के गोचर को साढेसाती के तीन चरण के नाम से भी जाना जाता है।अलग- अलग राशियों के लिये शनि के ये तीन चरण अलग-अलग फल देते…

http://acharyaastrologer.com/wp-content/uploads/2017/03/unnamed-15-260x222.jpg
09 Mar
2017

धनिष्ठा का उतरार्ध, शतभिषा, पूर्वा भाद्रपद, उतरा भाद्रपद व रेवती इन पांच नक्षत्रों ( सैद्धान्तिक रुप से साढेचार) को पंचक कहते है. पंचक का अर्थ ही पांच का समूह है. सरल शब्दों में कहें तो कुम्भ व मीन में जब चन्द्रमा रहते…

http://acharyaastrologer.com/wp-content/uploads/2017/03/unnamed-14-260x150.jpg
09 Mar
2017

चींटियों को आटा देने से मिलती है मां लक्षमी की अपार कृपा…. घर में धन-संपत्ति बनाए रखने के लिए घर पर देवी लक्ष्मी की कृपा होना बहुत जरूरी होता हैं। यदि घर में कुछ छोटी-छोटी बातों का ध्यान रखा जाए तो धन-लक्ष्मी…